Contractor Jee

A dedicated blog related to Construction

घर या मकान बनाने का सामान (Building Materials list and price)

जानिये, मकान बनाने में क्या क्या लगता है? (House construction materials list and price)

किसी भी निर्माण कार्य को शुरू करने से पहले भवन निर्माण सामग्री की आवश्यकता होती है, चाहे वह एक घर, मकान या दुकान हो। इसमें विभिन्न प्रकार की निर्माण सामग्री जैसे- सुरक्षात्मक, फिनिशिंग और सजावटी के समान का उपयोग किया जाता है।

ghar banane ka saman list
लेकिन, कुछ सामान आवश्यक हैं, जिनके बिना निर्माण कार्य पूरा नहीं हो सकता है ऐसी वस्तु में सीमेंट, लोहा, रेत, पत्थर, ईंटें आदि शामिल हैं। घर की सुरक्षा और लंबे समय तक टिकाऊ बनाने के लिए इन्हें सावधानी से चुना जाना चाहिए। विभिन्न ग्रेड, आकार और ब्रांडों में उपलब्ध ये सभी भवन निर्माण सामग्री का उपयोग, उनकी कार्यक्षमता और ताकत के आधार पर निर्माण में विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

घर बनाने का सामान की लिस्ट :

  1. सीमेंट (Cement)
  2. ईंट (Bricks)
  3. लोहे की छड़ (TMT Steel)
  4. रेत (Sand)
  5. पत्थर (Coarse Aggregates)
  6. लकड़ी/प्लाईवुड (Wood)
  7. नलसाजी पाइप (Plumbing fittings)
  8. इलेक्ट्रिकल तार और फिटिंग (Electrical fittings)

1. सीमेंट (Cement)

सीमेंट कंक्रीट का मूल और सबसे आवश्यक घटक है। जब सीमेंट को रेत, पत्थर और पानी के साथ मिलाया जाता है तो कंक्रीट बनता है, जो सूखने के बाद कठोर हो जाता है। कंक्रीट बनाने के अलावे सीमेंट का उपयोग दिवार, फर्श आदि बनाने में होता है।

makan banane ka saman cement

सीमेंट विभिन्न प्रकारों में उपलब्ध है जैसे- ओ.पी.सी (आर्डिनरी पोर्टलैंड सीमेंट), पी.पी.सी (पोर्टलैंड पोज़ोलाना सीमेंट), 53 ग्रेड, 43 ग्रेड सीमेंट आदि। निर्माण में इस्तेमाल होने वाला सीमेंट अच्छा क्वालिटी का होना चाहिए।

ये पढ़ें- अच्छा सीमेंट की क्वालिटी ऐसे चेक करें!

सीमेंट का बाजार मूल्य : Rs. 320 से 400 प्रति बैग (50 kg)


2. ईंट (Bricks)

ईंटों का उपयोग दीवार, खम्भा, फ़ुटिंग्स और अन्य संरचनाओं के लिए किया जाता है। अच्छी गुणवत्ता वाली ईंटें मकान को उचित ताकत प्रदान करती हैं। आजकल कई तरह के ईंट का उपयोग किया जा रहा है, जैसे- सामान्य मिट्टी की ईंटें (Clay Brick),  फ्लाई ऐश ईंट (Fly ash brick), कंक्रीट ईंट (Concrete Bricks) आदि।

First Class Bricks in hindi

ईंट का स्टैंडर्ड साइज लम्बाई, चौड़ाई व ऊंचाई क्रमश: 190, 90, 90 mm  होती है (7.5, 3.5, 3.5 इंच), लेकिन सामान्यत बाज़ार में मिलने वाली ईंट की लंबाई, चौड़ाई और ऊंचाई 9, 4, 3 इंच होती है।

ये पढ़ें- टॉप 5 प्रकार की ईंटें और अच्छी ईंट की पहचान

ईंट का बाजार मूल्य : Rs. 6 से 10 प्रति 1 ईंट


3. लोहे की छड़ (TMT Steel)

टी.एम.टी सरिया या स्टील एक मिश्र धातु है जिसका प्रमुख घटक आयरन होता है। इसका उपयोग कंक्रीट के साथ छत, पिल्लर, बीम आदि जैसे स्ट्रक्चर में किया जाता है। यह शक्तिशाली, लचीला होता है जो काफी लंबे समय तक चलता है।

TMT स्टील की छड़ Fe 415 ग्रेड, Fe 500 ग्रेड और Fe 550 ग्रेड में उपलब्ध होते हैं, जो स्टील की ताकत को दर्शाता है।

टी.एम.टी सरिया का बाजार मूल्य : Rs. 42 से 60 प्रति kg


4. रेत (Sand) और पत्थर (Coarse Aggregates)

रेत या बालू : रेत एक प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाली वस्तु है जिसमें टूटे हुये चट्टानों के बहुत छोटे कण होते हैं। रेत को नदी के तल से निकाला जाता है और निर्माण के लिए उपयोग में लाया जाता है। इसका उपयोग कंक्रीट, डामर में किया जाता है। दिवार के प्लास्टर के लिए रेत और सीमेंट का मिश्रण का इस्तेमाल आम है। महीन रेत का उपयोग सजावटी संरचना के निर्माण में भी किया जाता है, जिससे तरह तरह के नक्कासी कार्य घर के बाहर और अंदर किये जाते है।

makan banane me kya kya lagta hai

पत्थर : आधे इंच के साइज के पत्थर को 'Coarse Aggregates' कहते है, जिसे विस्फोटकों का उपयोग करके चट्टानों से तोड़कर और मशीनों का उपयोग करके छोटा बनाया जाता है। सबसे छोटे यानि की 6 mm के पत्थर, किचन आदि के स्लैब और छज्जा बनाने के काम आते है जबकि छत, बीम में आधे इंच से 1 इंच मोटे पत्थर का इस्तेमाल होता है। इसी तरह 1.5 इंच से 2 इंच (40-60 mm) के पत्थर का उपयोग रेलमार्गों के लिए किया जाता है।

रेत का बाजार मूल्य : Rs. 1600 से 3300 प्रति टन

पत्थर का बाजार मूल्य : Rs. 60 से 70 प्रति क्यूबिक फीट

ये पढ़ें- कंस्ट्रक्शन के लिए विभिन्न टाइप के कंक्रीट की जानकारी


5. लकड़ी/प्लाईबोर्ड (Wood)

पेड़ से प्राप्त लकड़ी या इससे बने प्लाईबोर्ड से घर के दरवाजे, चौखट, खिड़की इत्यादि बनते है। आजकल अल्लुमिनियम पैनल और कांच (Glass) का इस्तेमाल भी हो रहा है। लकड़ी और प्लाईबोर्ड से बनी रेडीमेड 'दरवाजे और खिड़कियाँ' बाज़ार में मिलने लगी है।


6. नलसाजी पाइप (Plumbing fittings)

पानी की आपूर्ति प्रणाली के लिए, टैप, सीवर और ड्रेनेज के लिये GI पाइप या PVC पाइप इस्तेमाल होता है। ऐसे PVC पाइप का उपयोग पानी के पाइप और सीवेज पाइप के रूप में किया जाता है। टॉयलेट में लगने वाले अन्य सामान पी.वी.सी, सेरेमिक और स्टील के हो सकतें है।


7. इलेक्ट्रिकल तार और फिटिंग (Electrical fittings)

बिल्डिंग के पंखे, प्रकाश के लिए बल्ब, स्विच के स्थान और अन्य उपकरण के लिए बिजली की तार से 'वायरिंग' की जाती है। एक समान्य घर के वायरिंग के लिए 14 गेज कॉपर वायर का इस्तेमाल होता है जिसकी मोटाई 1.63 mm होती है। 

उपर बताये गये विभिन्न कंस्ट्रक्शन मैटेरियल्स के अलावे बाईंडिंग वायर, सेरेमिक टाइल्स, वाइट सीमेंट आदि का उपयोग आम है।

अगर आपके पास कोई प्रश्न है, तो निचे Comment करें। यदि आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं, तो इसे अपने दोस्तों के साथ Share करें।

संबंधित जानकारियाँ-

मकान के सभी तरह की नक्शे की जानकारी

सीमेंट/फ्लाई ऐश ईंट के फायदे और खासियत!

जानिये, घर बनाने के लिए मिट्टी की जाँच कैसे होती है

एक टिप्पणी भेजें

4 टिप्पणियाँ